अलविदा ब्लागरो, फीर कभी और मीलेंगे (आखरी बार मूलाकात)

अभी और मीलूंगा,
अभी जाता हूं, कभी और आउंगा

आप सब से कोई सिकायत नही।

सायद अगली बार हिन्दी भी ठीक हो जाएगा।
………अगले साल
…आऊंगा….
……………………..
…………………………………
…..
..
.

Our New Site www.Dewlance.com

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of