फिर वही पूराने दिनो वाला ब्लाग

आज मन मे आया की कूछ पुराने ब्लाग पोस्ट पढता हूं और फिर उस समय की लिखावट देख कर हसी आने लगी। एक दो ब्लाग पोस्ट के टाईटल और कूछ लाईने पढ कर लगा की यह क्या लीखता था।

जैसे यह पोस्ट और कई अन्य 2009, 2010 के पोस्ट।

जब हम खाली रहते हैं और कोई व्यावसायिक चीज के लिये काम नही करते तो कितनी अच्छाई भरी होते है पर जब आप किसी बिजनेस मे चले जाते हैं तो आपकी लिखावट मे बहोत बदलाव आ जाता है। जोक, आदी मे भी आप अपने व्यावसाय का जीक्र नही छोड पाते हैं।

और ईसी बात का अनूभव हूवा जब मैने अपने ब्लाग के पूराने पोस्ट देखे और कुछ नए पोस्ट देखे तो पाया की नए वाले मे ज्यादातर व्यावसाय से प्रभावीत लेख हैं और पुराने वाले खूले मन से लिखा हूवा लेख।

फिर चिट्ठाजगत के कुछ पेज भी देख कर कई ब्लाग मिले जीनको अक्सर पढता था।

चिट्ठाजगत का तकनीकी ब्लाग लिस्ट।

ज्यादातर उस समए के ब्लाग अभी भी उसी तरह हैं और डिलीट नही हूवे हैं 😉

2
Leave a Reply

avatar
2 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
2 Comment authors
nirdoshNirdosh Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
Nirdosh
Guest

सर ब्लॉग या वेबसाइट पर ट्रैफिक कैसे बढ़ाये और ज्यादा से ज्यादा बच्क्लिंक कैसे बनाए इस पर भी एक post लिखिए जिससे ब्लिग को सर्च मैं ले के आ सके |
धन्यवाद !

nirdosh
Guest

hello sir,
मेरे ब्लॉग मैं कई बार जो post करता हु तो उसकी कई कॉपी अपने आप बन जाती है जिनको डिलीट करे ही ठीक किया जा सकता है ये क्या है और क्यों इस प्रकार की परेशानी आ जाती है क्या इससे बचने का कोई तरीका है
www.festivalwhise.ooo