वेबसाईट लेने का अलग तरीका क्या है जीससे आपको कोई नूकसान या पचताना ना पडे? सिर्फ कम पैसे ज्यादा बैंडविथ बैंडविथ लेने से सोच रहे हैं कि मै ठगा नही गया तो ये गलत सोच रहे हैं ये भी हो सक्ता है की जो Rs.500 मे वेबसाईट लीये हैं और उसमे आपको कई चीज ज्यादा …

आज ये पोस्ट मै हिन्दी के लिये और आपके लिये लिख रहा हूं। ब्लाग जगत मे असांती फैल्ता जा रहा है। और एसा प्रतीत होता है की हम कूछ नही कर सक्ते। पर अगर कोई सोच ले उसे कूछ करना है तो वो कर सक्ता है। कूछ भी नामूंकीन नही है क्या आपको पता है …

आज घोस्ट बस्टर ने धोखा दीया है। और सिर्फ मूझे ही नही सभी ब्लागरो को उनके ब्लाग पर मै गया तो पोस्ट का टाईटल देख के खूश हो गया “तैयार रहिये अपने ब्लॉग पर टिप्पणियों की बरसात के लिए“   ईसपर मन मे बोला “घोस्ट बस्टर जी” धन्यवाद   अब मै पढते पढते आगे बढता …

आज बताने जा रहा हूं आपको एक ऐसे छूपारूस्तम बीमारी की जीसे आप पढ के हैरान हो जाऐंगे।और बताउंगा “क्या करें की पसीना ना आए” आप धूप मे नीकलते हैं और ज्लद ही पसीने से भीग जाते हैं। या आपके साथ कोई और भी नीकला है और सब्से पहले आप पसीने से भीग जाते हैं …

आज आपको आस्चर्य होगा की एक एसा बंदर मीला है जो उंगली से भी छोटा है।विशवास नही होता ना? तो देखीये फोटो भी है।जब देखा तो मन कीया की काश सामने होता कीतना मजा आता। जब ईतना छोटा एक बंदर है तो उसका छोटा भाई कीतना छोटा है।अभी पूस्ती नही हूई है की बंदर है …

आज आपको आस्चर्य होगा की एक एसा बंदर मीला है जो उंगली से भी छोटा है।विशवास नही होता ना? तो देखीये फोटो भी है।जब देखा तो मन कीया की काश सामने होता कीतना मजा आता। जब ईतना छोटा एक बंदर है तो उसका छोटा भाई कीतना छोटा है।अभी पूस्ती नही हूई है की बंदर है …

कई जगह आपने देखा होगा ये कहते हूवे की आप com1,com2..3 नाम के फोलडर नही बना सक्ते। पर आज मै बना के दीखाता हूं और आपको भी सीखाता हूं। जरा con नाम का फोलडर बना दे दीखा दो तो मान जाऊंगा की आप उस्ताद हैं। नही बना सक्ते ना। हा…हा ट्राई करते रहीये पर बन …

“यहाँ तो सब उल्टा है मै जिसका ब्लॉग पड़ता हूँ और वह म……. जाता है”ये लीखा “महेंद्र मिश्रा” जी ने। मेरे पिछले पोस्ट पर “मेरा ब्लोग पढने वाला तो बम धमाको मे मर गया, अब किसका वीरोध करूं?” यहां ईनके विरोधा-भाष कमेंट देने से पहले सायद ईनहोने पढा नही है कि मैने क्या लीखा है। …

आज मै netscape को खोजते हूवे FLOCK BROWSER देख लीया। ईसके फंसन तो बहुत से हैं। ये मूझे फायरफाक्स से भी अच्छा लगा। ब्लाग पोस्टींग करना हो बीना ईंटरनेट लगाए लीख कर सेव कर लें या नेटc लगा कर उसी वक्त पोस्ट कर दें। ईसके उप्योगीता बताऊंगा तो दंग रह जाऎंगे। 1. कीसी भी ब्लाग …

एक तरफ “घोस्ट बस्टर जी” हैं कहते हैं। कि “अब औरत होने का सबूत पेश करना होगा?” 🙂 और दूसरी तरफ हैं “रख्शंदा जी” कहती हैं कि “कौन लिख रहा है “घोस्ट बटर” के नाम से? 🙂 मैने ईनकी पोस्टे पढ लीया है और पढने मे बहुत मजा आया। जी हां कहानी की तरह पढता …